ICICI Lombard : साइबर सुरक्षा के लिए अब मिलेगा इंश्योरेंस कवर होगा फायदा

ICICI Lombard : साइबर सुरक्षा के लिए अब मिलेगा इंश्योरेंस कवर, जान‍िए क्‍या होगा फायदा

कोरोना वायरस महामारी की वजह से लोग अपने घरों से बाहर निकलने से बच रहे हैं। ऐसे में ज्यादातर सरकारी और निजी कर्मचारी भी अपने दफ्तर का काम घर से कर रहे हैं। जिस कारण बड़ी और छोटी सभी प्रकार की कंपनियों के लिए साइबर सुरक्षा का जोखिम बढ़ा है। साइबर अपराध के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी को देखते हुए देश की बड़ी नॉन लाइफ इंश्योरेंस कंपनी आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस ने लोगों के लिए साइबर इंश्योरेंस कवर लॉन्च किया है। इसका नाम रिटेल साइबर लायबिलिटी इंश्योरेंस पॉलिसी है।

म‍िलेगा 1 करोड़ रु. का बीमा कवर

इसमें साइबर अटैक से नुकसान होने पर 1 करोड़ रु. तक का बीमा कवर मिलेगा। यह पॉलिसी लोगों और उनके परिवारों को किसी साइबर फ्रॉड या डिजिटल जोखिम के खिलाफ कवर देता है जिससे वित्तीय या दूसरा नुकसान हो सकता है। रिटेल साइबर इंश्योरेंस प्रोडक्ट इंश्योरेंस का एक रूप है जो लोगों की अनधिकृत ट्रांजैक्शन और ऑनलाइन चोरी से होने वाले नुकसान की भरपाई करता है।

ये रही इंश्योरेंस की राशि और पॉलिसी की अवधि

ICICI Lombard पॉलिसी को डिजिटल तौर पर काम करने वाले लोग किफायती दरों पर खरीद सकते हैं। प्रीमियम 6.5 रुपये प्रति दिन से लेकर 65 रुपये प्रति दिन तक है। कवर के लिए इंश्योरेंस की राशि 50,000 रुपये से लेकर 1 करोड़ रुपये तक है, जिसका चुनाव पॉलिसीधारक करता है। पॉलिसी 1 साल की अवधि के लिए पूरे परिवार को कवरेज देता है जिसमें बच्चा भी शामिल है।

इन अपराधों को करेगा कवर

जानकारी दें कि कंपनी ने प्रोडक्ट को साइबर हमला होने की स्थिति मे सुरक्षा देने के लिए विकसित किया है।
इसमें आइडेंटिटी थेफ्ट, साइबर बुलिंग, मालवेयर और बैंक अकाउंट, क्रेडिट कार्ड और मोबाइल वॉलेट से अनधिकृत और धोखाधड़ी से होने वाले वित्तीय नुकसान के लिए कवर मिलता है।

Read More: Income Tax के नियमों में हुए ये अहम बदलाव, PAN-Aadhaar लिंक करने की डेडलाइन भी बढ़ाई गई

इसमें किसी भी कवर किए जाने वाले जोखिमों से जुड़े कानूनी खर्च भी शामिल हैं।
इसके अलावा डिजिटल धोखाधड़ी से होने वाले प्रतिष्ठा को नुकसान को बहाल करने में लगे खर्च पर भी कवर मिलेगा।
इसके साथ में, अगर व्यक्ति को ऐसे वेतन का नुकसान होता है, जिसकी वह कमाई कर सकता था, और उसका समय रिस्क से जुडे़ तथ्यों को सुधारने में लग गया, तो उसे भी क्लेम किया जा सकता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *