दुनियाभर के रिटेल स्टोर्स बंद करेगी माइक्रोसॉफ्ट

दुनियाभर के रिटेल स्टोर्स बंद करेगी माइक्रोसॉफ्ट, अब डिजिटल प्लेटफार्म पर रहेगा कंपनी का पूरा फोकस

दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट दुनियाभर के अपने सभी रिटेल स्टोर्स बंद करने जा रही है। कंपनी ने हाल ही में इसकी घोषणा की। इस फैसले का मतलब यह भी है कि महामारी के कारण बंद हुए माइक्रोसॉफ्ट के 80 से ज्यादा रिटेल स्टोर्स अब दोबारा नहीं खुलेंगे। इनके बंद होने के बाद कंपनी की रिटेल टीम मेंबर्स कस्टमर्स सर्विस, सेल्स, ट्रेनिंग और सपोर्ट जैसी सर्विसेज से जुड़े रहें। हालांकि कंपनी ने यह जानकारी नहीं दी कि रिटेल स्टोर्स कब से बंद होंगे।

चार स्टोर्स को एक्सपीरियंस सेंटर में बदलेगी कंपनी

माइक्रोसॉफ्ट ने बताया कि वे अब डिजिटल स्टोर्स पर फोकस करेगी। कंपनी का कहना है कि वह केवल उन चार जगहों के स्टोर्स को खुले रखेगी जिनमें अब प्रोडक्ट्स की सेल नहीं होती और इनका उपयोग केवल एक्सपीरियंस सेंटर के तौर पर ही होता है। कंपनी का कहना है कि वह माइक्रोसॉफ्ट डॉट कॉम समेत Xbox और Windows स्टोर्स में निवेश जारी रखेगी। कंपनी लंदन, एनवाईसी, सिडनी और रेडमंड कैंपस जैसे स्थानों पर माइक्रोसॉफ्ट एक्सपीरियंस सेंटर्स को संचालित करेगी।

सभी सुविधाएं डिजिटल प्लेटफॉर्म पर देगी कंपनी

कंपनी का कहना है कि रिटेल स्टोर्स पर मिलने वाली सभी सुविधाएं यूजर्स को अब डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी उपलब्ध होंगी। कंपनी ने बताया कि रिटेल स्टोर्स की तुलना में हमारी ऑनलाइन बिक्री में लगातार इजाफा हो रहा है और हमारी टीम वर्चुअल तौर पर कस्टमर्स को बेहतर सर्विसेज प्रदान कर रही है। माइक्रोसॉफ्ट ने अपने रिटेल स्टोर्स को बंद करने की घोषणा के साथ ही यह भी कहा कि ‘हमने एक ऐसी टीम का निर्माण किया है जिसमें मल्टीटैलेंटेड लोग है और दुनिया के किसी भी कोने से काम करने में सक्षम है। हमारी टीम में ऐसे लोग हैं जो कि 120 से अधिक भाषाओं को जानते हैं और यह टीम पहले कहीं अधिक मजबूत है।’

एपल जैसी लोकप्रियता हासिल नहीं कर पाई

माइक्रोसॉफ्ट अपनी क्लाउड कंप्यूटिंग जैसी सर्विसेज पर अधिक भरोसा कर रहा है, इसके रिटेल स्टोर्स पर सर्फेस टैबलेट और लैपटॉप के साथ-साथ Xbox गेमिंग गियर पर ध्यान फोकस था। लेकिन फिजिकल स्टोर्स एपल जैसे पॉपुलैरिटी हालिस करने में विफल रहे। इंडिपेंडेंट टेक्नोलॉजी एनालिस्ट नील साइबर्ट ने कहा कि कंपनी ने स्टोर्स बंद करना का निर्णय इसलिए लिया क्योंकि सर्फेस का कारोबार तेजी से कंज्यूमर स्पेस में तेजी से अपना स्थान खो रहा है।

Read More:  Income Tax के नियमों में हुए ये अहम बदलाव, PAN-Aadhaar लिंक करने की डेडलाइन भी बढ़ाई गई

माइक्रोसॉफ्ट के फाइनेंशियल रिजल्ट में महामारी का प्रभाव अभी तक रिफलेक्ट नहीं हुआ है। कंपनी ने जनवरी से मार्च तक 10.8 बिलियन डॉलर का शुद्ध लाभ कमाया, जो कि सालाना आधार पर 22 प्रतिशत बढ़कर 35 बिलियन डॉलर के टर्नओवर पर है। सर्फेस रेंज के लिए उत्पादन में देरी के बावजूद, समूह का मानना ​​है कि यह संकट के समय के लिए अच्छी तरह से तैनात है, विशेष रूप से क्लाउड कंप्यूटिंग के क्षेत्र में। सोशल डिस्टेंसिंग के युग में माइक्रोसॉफ्ट अपने टेलीनेटवर्किंग, डिस्टेंट एंड एजुकेशन सर्विस पर भरोसा कर रही है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *